Risk

 

चला था सफर में सोचा कर की सुरक्षित हूँ ,

मेरी सुरक्षा कहा कहाँ खर्च हो गयी पता ही न चला।

रिस्क पहले दिन से ही मेरे साथ थी घूघट में,

आज घूघट उठा दिया रिस्क से

बना लिया उसे अपना,

तो रिस्क ही बनगई सुरक्षित हमसफ़र

क़तरा-क़तरा …

COPYRIGHT 2009, The blog author holds the copyright over all blog posts