www.kalpanashah.net
वक्त की गागर में
जीवन के रंग घुल गए
हर तरफ
पंकज ही पंकज खिल गए.
एक दिन एक झौका आया
सब रंग धुल गए .
दिनरात एक हो गया;
आसमा काला
और कल्पना फिर हुई नयी
पंकज चाँद हो गया…

दोस्तों कल एक  painting exhibition देखी और पढ़ा एक कलाकार के बारे में. 26/11 के हादसे में उनका मीत उनसे बिछड़ गया. जिंदगी थमती नहीं, वो फिर आगे बड़ी, चित्रकार बनी. ये जो भी मैंने कहा सब उनका है, पेटिंग भी उन्ही की है नाम है कल्पना शाह

12 Responses to “पंकज चाँद हो गया”

  1. rajat narula Says:

    Bahut umda rachna hai, gagr mai sagar bhar diya aapne…

  2. Kavita Says:

    कम शब्दों मे सबकुछ कहने मे आप माहिर है. आपकी यह रचना कविता नहीं एक पेटिंग है जो आपने शब्दों के रंगों से बनाई है. आपके फोटोग्राफ भी बहुत कलात्मक है, मै यह अनुमान लगा रही हूँ की अगर आप पेटिंग करेंगे तो कैसी होगी. उम्मीद है और भी बहुत बढ़िया भविष्य मैं देखने, पढने को मिलेगा …

  3. suman'meet' Says:

    पहली बार आपके ब्लॉग पर आई हूँ और बहुत अच्छा लगा हर रचना में बहुत कुछ है जो मन को छू जाता है

  4. Umesh Batra Says:

    Congratulations Yatish Ji, Some Time I feel like reading your small small Katras again and again, The more I read everytime I get new meanings and try to relate with real world for the same poem. I also visited your main site and found number of things which no one has created the way you have done it, I m referring to Your 3D Vidoes (specially NDTV Doctor, Jharkhand and Orissa Assembly etc.), In 360 Panaromic VR World (Jain Teerthkshetra is the best out off all) etc. I personally feel you are the right person in the Industry to be consulted for any creative work. I remember when I met you years back and thought a very small size graphic desinger is born, but today I feel proud of you that you have reached to a very high level of creativity. Good Luck and Best wishes for your work…

  5. saumya Says:

    bauhat badhiyaa…..loved it..

  6. Urmi Says:

    बहुत ख़ूबसूरत भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने शानदार रचना लिखा है जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

  7. shashi kant gupta Says:

    पंकज का धुंदला सा अक्स उभरते हुए चाँद की मद्धम रौशनी में नजर आता है !

  8. surjeet Says:

    What a pretty poem you’ve posted. Thank you for sharing that! My good wishes are with Kalpana. No one can ever experience all that life has to offer. Its only through sharing feelings, experiences and insights that we can hope to raise beyond our own meager lifetime.

  9. Dimple Says:

    Bahut hi sundar… Very nice!
    With less words you said it all…….. :)

  10. deepshikha Says:

    nice

    bilkul sahi kaha
    zindagi rukti nahi

  11. neha Says:

    ये पंक्तिया छोटी हो कर भी बहुत खुबसूरत हैं…..और जिस तरह से भावो को इनमे दर्शाया हैं वो काबिले तारीफ हैं….Waise Thanks for visiting my blog

  12. surender Says:

    kya baat hai yatish bhai..

    pankaj chaand ho gaya….

    bahut hee sundar bhaaaav….

Leave a Reply

COPYRIGHT 2009, The blog author holds the copyright over all blog posts