आजादी ढूड रहा था शब्दों मै ,
कि एक अजनबी दोस्त ने रौशनी दी ,
अपने बच्चों कि हँसी मै है आजादी ।
शुक्रिया …
बहुत कुछ मिलगया जो मेरे पास ही था ।

  

COPYRIGHT 2009, The blog author holds the copyright over all blog posts