uphaar_yatishjain
आयीं है उम्मीदे
आया है वक्त फिर दोहराने,
आयी है दस्तक इन्साफ की
और
आयीं है रहें देखने
अपने चाहने वालों की
इन्साफ की डगर पे
जीत-हार
या
उपहार

Click on the image for a larger view
diwali2007_yatishjain

Technorati Tags: ,,,
COPYRIGHT 2009, The blog author holds the copyright over all blog posts