एक रौशनी की तलाश है
जिसे पकड़ कर जा सकूँ
उस विशाल प्रकाश की ओर
जहाँ सब कुछ है
उजला उजला,
जहाँ चल सकें हम
अपनी छाया के संग

अंधेरों में
पता ही नहीं चलता
कि कौन
किसकी छाया में है

6 Responses to “एक रौशनी”

  1. Dimple Says:

    Oh my my!!
    Short, crisp and brilliant!

    Bahut sundar concept hai…

  2. Rajiv Says:

    Great poem, very nice :)

  3. Yatish Says:

    Thanks rajivji for my photograph

  4. Amit Says:

    One more good one… short and precise…
    HMMMM… so you are back again :)…

  5. गिरीश बिल्लोरे मुकुल Says:

    बहुत सुन्दर ब्लाग
    हार्दिक शुभ कामनायें

  6. saumya Says:

    too good…

Leave a Reply

COPYRIGHT 2009, The blog author holds the copyright over all blog posts