जादू था जीवन में 
पर भूल गए थे,
रोमांच भी था 
कहीं खो गया था.
फिर मन के किसी कोने से 
एक आवाज़ आयी,
थैंक यू थैंक यू थैंक यू कहती 
सामने स्क्रीन पर मोनिका आयी
साथ में आशाओं का जादू लायी। 

सबसे पहले मुझसे 
मेरी मुलाकात हो गयी,
जो धूल चढ़ी थी शीशे पर 
थैंक यू की बारिश से धुल गयी। 

दूसरा सपनों के बादल 
मडराने लगे 
कुछ जादू के रूप में 
सामने आने लगे। 

तीसरा पंखों में उड़ान की 
पावर आ गयी ,
कुछ ऐसा स्प्रिंकल किया 
इस जर्नी ने 
मोनिका सब पर छा गयी। 
Thank you Thank you Thank you

Visit DivineBlessings for MAGIC

One Response to “The Magic”

  1. shripal singh Says:

    Very nice poem.

Leave a Reply

© 2020 Qatra-Qatra क़तरा-क़तरा All Rights Reserved -- Copyright notice by Blog Copyright

COPYRIGHT 2009, The blog author holds the copyright over all blog posts